Friday, May 27, 2016



"ये तो है कि , दिनं भर के दीदों के बाद
देर रात अंधेरे में इन चश्मों को उतारो तो एक् खुशफेहेमी सी होती है ,
तुम यहीं हो ...उस मोड़ से बस चले आ रहे हो....चले ही आ रहे हो ...."

No comments:

Post a Comment